बेवजह़

वैसे जरूरी तो नहीं है
कुछ भी, फिर भी;


कभी-कभी, कुछ-कुछ,
हो जाते है जरूरत ;

जैसे की सांसे लेना,
या हौसला रख़ना !



- Swati, August 17, 2016 11.30 am

Comments

Popular posts from this blog

Marathi Haiku

Death

नकळत