Sunday, September 23, 2012

अतीत का रिश्ता


एक बिखरा रिश्ता
छोड़ आए थे उस पल
जो कभी नहीं भूला

वहाँ पर छोड़ा था
एक घर
जिसे समझते थे मकान

छोड़ा था, 
ऐसे मकान की खोज में
जिसे घर कह सके
धूप से बचाने वाला,
खुशीयाँ बरसाने वाला,
और रात में सपने देने वाला;

ऐसा घर जिससे बना सके
ऐसा रिश्ता - जो बिखराया था,
जिसे भूल नहीं पाए

उस घर को न बना पाए
 बना भी पाए तो क्या ?

                 - स्वाती Sept. 22, 2012

Monday, September 3, 2012

माया



सर्द पावसाळी हवेला
गार वाऱ्याचे उमाळे

ओल्या धुक्याची झालर
 
कडेलोटात ओघळे

गच्च रानात गुपित

रुण - झूण उलगडे

संगे सोबती शेवाळी
शांत पहाडाचे कडे

चिंब ओथंबले प्राण
श्वास - श्वास उलगडे

मेघ मल्हाराची माया

आले संगीत चहूकडे.


- स्वाती 3 Sept, 2012.
 #MarathiKavita